news on politics
एमके स्टालिन की फाइल फोटो | ट्विटर


Text Size:

चेन्नई: तमिलनाडु में सत्तारूढ़ एआईएडीएमके ने मतदाताओं को ‘नकद राशि बांटने’ का आरोप लगाते हुए डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन और उनकी पार्टी के चार प्रत्याशियों की उम्मीदवारी को ‘रद्द’ करने की मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) से सोमवार को गुजारिश की.

तमिलनाडु के सीईओ सत्यब्रत साहू को दी याचिका में अन्नाद्रमुक की अधिवक्ता इकाई के संयुक्त सचिव आरएम बाबू मुरुगवल ने आरोप लगाया कि कोलथुर सीट से चुनाव लड़ रहे स्टालिन के सहयोगी मतदाताओं को ‘पांच हजार रुपये की रकम बांट’ रहे हैं.

उन्होंने आरोप लगाया कि महिला स्वयं सहायता समूहों को स्टालिन के पक्ष में वोट देने के लिए 10-10 हजार रुपये का ‘भुगतान’ किया गया है और मतदाताओं को मोबाइल भुगतान ऐप ‘जी-पे’ के जरिए पैसे दिए गए हैं.

अन्नाद्रमुक के पदाधिकारी ने आरोप लगाया है कि यह हैरान करने वाली बात है कि अन्नाद्रमुक और अन्य द्वारा बार-बार शिकायत करने के बाद भी अधिकारियों ने मतदाताओं को धन का वितरण रोकने के लिए कोई प्रयास नहीं किया.

उन्होंने आरोप लगाया कि द्रमुक प्रत्याशी स्टालिन ‘भ्रष्ट’ आचरण में शामिल हैं, लिहाजा उन्हें चुनाव लड़ने से ‘अयोग्य’ ठहराया जाए.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें