यति नरसिंहानंद सरस्वती | फेसबुक


Text Size:

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान पैगंबर साहब के बारे में टिप्पणियां करके कथित तौर पर धार्मिक भावनाएं भड़काने के मामले को स्वत: संज्ञान में लेते हुए शनिवार को गाजियाबाद स्थित डासना देवी मंदिर के मुख्य पुजारी यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ एक एफआईआर दर्ज की.

प्राथमिकी आईपीसी की धाराओं 153-ए (धर्म, जाति, निवास, भाषा आदि के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच वैमनस्य फैलाने) और 295-ए (किसी भी वर्ग के धर्म या धार्मिक मान्यताओं के संबंध में जानबूझकर या दुर्भावना के साथ किया गया ऐसा कोई कृत्य जिससे उसकी धार्मिक भावनाएं भड़कें) के तहत दर्ज की गई है.

दिल्ली के पीआरओ डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने कहा, ‘प्रेस क्लब में हुई एक प्रेस कांफ्रेंस से जुड़ा एक वीडियो सोशल मीडिया पर सर्कुलेट होने को संज्ञान में लेते हुए पार्लियामेंट स्ट्रीट थाने में एक एफआईआर नंबर 57/21यू/एस 153-ए/295-ए-आईपीसी दर्ज की गई है.’

आप विधायक और दिल्ली वक्फ बोर्ड अध्यक्ष अमानतुल्ला खान ने भी शनिवार को नरसिंहानंद के खिलाफ जामिया नगर पुलिस स्टेशन में एक शिकायत दर्ज कराई है.

शिकायत में कहा गया है, ‘यति नरसिंहानंद सरस्वती, जो डासना देवी मंदिर के मुख्य महंत, हिंदुत्ववादी संगठन हिन्दू स्वाभिमान के नेता और अखिल भारतीय संत परिषद के अध्यक्ष हैं, ने जानबूझकर और दुर्भावना के साथ न केवल देश बल्कि दुनियाभर में पैंगबर मोहम्मद से मोहब्बत और इबादत करने वाले मुस्लिम समुदाय की धार्मिक भावनाओं को आहत किया है.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें