news on politics
वोटिंग के लिए लाइन में लगी महिलाएं | पीटीआई


Text Size:

तिरुवनंतपुरम: केरल में आगामी छह अप्रैल को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार जोरों पर है और इस बीच तीन महिला उम्मीदवारों ने लोगों का ध्यान आकर्षित किया है जो राज्य में राजनीति से हटकर विभिन्न कारणों से चुनाव लड़ रही हैं.

उनके चुनाव अभियान भले ही अन्य लोगों की तरह जोरदार नहीं हो, लेकिन उनकी उम्मीदवारी खुद जनता के बीच बहस और चर्चा का विषय बनी हुई है.

तीन महिलाएं- कांग्रेस की पूर्व नेता लतिका सुभाष, वालयार बहनों की मां और आरएमपी के दिवंगत नेता टी पी चंद्रशेखरन की पत्नी के. के. रेमा तीन अलग-अलग कारणों से चुनाव लड़ रही है.

चुनाव जीतने से ज्यादा, उनकी प्राथमिकता राजनीतिक दलों में पुरुष वर्चस्व, जानलेवा राजनीति और शोषित बेटियों के लिए त्वरित न्याय के रूप में दिखती है.

लतिका अपनी पार्टी में पुरुष वर्चस्व और अनुचित व्यवहार का विरोध करने के लिए चुनावी मैदान में उतर गई हैं, जबकि के. के. रेमा अपनी उम्मीदवारी के माध्यम से सत्तारूढ़ माकपा की कथित जानलेवा राजनीति के खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखना चाहती हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें