सुरक्षाबलों पर हमले के लिए पीपुल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी बटालियन-1 के कमांडर हिडमा और सुजाता को जिम्मेदार बताया जा रहा है. साथ ही बताया गया कि नक्सलियों ने घात लगाकर सुरक्षाबलों को घेरा और उन पर हमला कर दिया. 

छत्तीसगढ़ नक्सली हमला : लापता कोबरा कमांडो की 5 साल की बेटी की अपील- ‘प्लीज, मेरे पापा को छोड़ दो’

कौन है हिडमा    

बस्तर में माओवादियों का जोन बंटा हुआ है, हिडमा की बटालियन दक्षिण बस्तर, बीजापुर, सुकमा और दंतेवाड़ा जिलों की कमान संभालती है. छत्तीसगढ़ सरकार ने उसकी गिरफ्तारी पर 25 लाख रुपये का इनाम रखा है. हिडमा बीजापुर और सुकमा की सीमा के पास जगरगुंडा पुलिस थाने की सीमा के तहत पूवर्ती गांव का रहने वाला है. 

एक पुरानी सी तस्वीर पुलिस रिकॉर्ड में मौजूद है दुबले-पतले हल्की मूंछों वाले युवक की. लेकिन अब वो 40-45 साल के बीच का शख्स है. कई पूर्व नक्सलियों ने और पुलिसकर्मियों ने हमें बताया कि सुरक्षाबलों के खिलाफ ऑपरेशन में वो बर्बर है लेकिन अपनी बटालियन के साथ शांत. नक्सलियों के बीच रैंक की लड़ाई में वो अपने साथियों को बराबर सम्मान देता है. हर बड़े ऑपरेशन में वो खुद मौजूद रहता है. माओवादियों के बीच उसे नायक का दर्जा मिला हुआ है, जिसके आसपास कई कहानियां बुनी गई हैं मसलन वो इतना साहसी है कि स्थानीय बाजार में आम वेशभूषा में वो खुद खरीदारी करने आता है.

राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ नक्सल हमले पर उठाए सवाल, कहा- ‘अगर खुुफिया नाकामी नहीं है तो इसका मतलब…’

बस्तर में नक्सलियों की पहचान है हिडमा

छत्तीसगढ़ में भी माओवादियों का शीर्ष नेतृत्व तेलंगाना से ही है, लेकिन अपवाद है तो बस हिडमा. रमन्ना की मौत के बाद उसके प्रमोशन की बात हुई लेकिन कई रिपोर्टों के उलट अभी भी वो सेंट्रल कमेटी का सदस्य नहीं बना है लेकिन अपने जोन में हिडमा ही कानून है.

हिडमा 20 साल से सक्रिय है, कई बार वो सुरक्षाकर्मियों के जाल में फंसने वाला ही था लेकिन बच गया. अब उसकी सुरक्षा बहुत कड़ी रहती है, वो हमेशा जंगल के अंदर ही रहता है. चूंकि वो बस्तर के इन्हीं इलाकों में पला-बढ़ा, यहीं बंदूक पकड़ी इसलिये वो जंगल के चप्पे-चप्पे से वाकिफ है. अपनी बटालियन के जवानों के 4-5 सुरक्षा घेरे के अंदर हिडमा रहता है. चूंकि इन इलाकों में ह्यूमन इंटेलिजेंस सबसे अहम है लेकिन अगर सुरक्षाबलों को लोकेशन मिलती भी है तो फोन नेटवर्क में दिक्कत की वजह से जबतक जानकारी मिलती है हिडमा आगे बढ़ चुका होता है.

‘अगर खुफिया विफलता होती तो नहीं मारे जाते इतने नक्सली’, छत्तीसगढ़ नक्सल हमले पर बोले CRPF चीफ

90 के दशक में नक्सलियों के साथ शामिल होने वाला हिड़मा के बारे में आज कई किस्से हैं. कई लोग कहते हैं वो फर्राटेदार अंग्रेजी बोलता है जबकि हकीकत में वो तेलुगू, गोंडी के साथ कुछ स्थानीय बोलियां समझता और बोलता है. 4-5 स्तरों की सुरक्षा के बीच रहने वाला हिडमा हमेशा एक-47 से लैस रहता है.

कौन है सुजाता

सुजाता छत्तीसगढ़ की मोस्ट वांटेड नक्सली कमांडरों में से एक है. दिसंबर 2019 में नक्सल कमांडर रमन्ना की मौत के बाद सुजाता ने ही अस्थाई तौर कमान संभाली थी.  सुजाता पर 25 लाख रुपये का ईनाम है. सुजाता डिविजनल कमेटी की प्रभारी है. सुजाता किशन जी की पत्नी हैं. कई नामों से जानी जाती हैं ‘पोथुला कल्पना, उर्फ मैनक्का, उर्फ सुजाताक्का’

“नक्सलियों को थी हमारी मूवमेंट की खबर, घात लगाकर…”- NDTV से बोले हमले में घायल CRPF अधिकारी



Source link

0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Instagram

This error message is only visible to WordPress admins

Error: No connected account.

Please go to the Instagram Feed settings page to connect an account.